अब शिवसेना के ‘अनिल’ को ईडी का नोटिस! राउत बोले, ‘शाबाश’

परविहन मंत्री अनिल परब भाजपा के रडार पर हैं। हाल ही में पार्टी कार्यकारिणी की बैठक में भाजपा ने एक प्रस्ताव पारित किया था, जिसमें उपमुख्यमंत्री अजित पवार और परिवहन मंत्री अनिल परब दोनों की कथित तौर पर 100 करोड़ रुपये  वसूली मामले में सीबीआई जांच की मांग की गई थी।

राज्य में जहां शिवसेना-भारतीय जनता पार्टी का विवाद तूल पकड़ता जा रहा है, वहीं अब शिवसेना को एक और झटका लगने के संकेत मिल रहे हैं। वजह यह है कि शिवसेना नेता और परिवहन मंत्री अनिल परब को ईडी द्वारा नोटिस भेजे जाने की जानकारी मिली है। इस बात की जानकारी खुद शिवसेना सांसद संजय राउत ने दी है। केंद्रीय मंत्री नारायण राणे की गिरफ्तारी के बाद अनिल परब का एक वीडियो वायरल हो गया। उसके बाद अनिल परब भाजपा के रडार पर थे।

यह है संजय राउत का ट्वीट
‘शाबाश! जैसी कि उम्मीद थी, जन आशीर्वाद यात्रा के समापन पर अनिल परब को ईडी द्वारा नोटिस जारी किया गया है। केंद्र सरकार काम मे लग गई है। भूकंप का केंद्र रत्नागिरी में है। परब रत्नागिरी के पालक मंत्री हैं। कृपया घटनाक्रम को समझें। कानूनी लड़ाई कानून से लड़ी जाएगी। जय महाराष्ट्र!’

भाजपा ने की थी मांग
अनिल परब पहले से ही भाजपा के रडार पर हैं। हाल ही में पार्टी कार्यकारिणी की बैठक में भाजपा ने एक प्रस्ताव पारित किया था, जिसमें उपमुख्यमंत्री अजित पवार और परिवहन मंत्री अनिल परब दोनों की कथित तौर पर 100 करोड़ रुपये  वसूली मामले में सीबीआई जांच की मांग की गई थी। साथ ही जुलाई में भाजपा नेता किरीट सोमैया ने आरोप लगाया था कि परिवहन मंत्री अनिल परब ने म्हाडा की खाली जमीन पर कब्जा कर लिया है और अवैध रूप से 2,000 वर्ग फुट का निर्माण किया है।

ये भी पढ़ेंः राणे की जन आशीर्वाद यात्रा में सिरफिरे लोग शामिल! शिवसेना की टीका टिप्पणी

कौन हैं अनिल परब?
महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री अनिल परब पिछले 20 साल से शिवसेना में हैं। उनका राजनीतिक सफर शिवसेना के विभागाध्यक्ष से लेकर परिवहन मंत्री तक का रहा है। परब के काम को देखते हुए शिवसेना ने उन्हें तीन बार विधान परिषद में बिठाया है। वे 2004-2010, 2012-2018 और जुलाई 2018 में विधान परिषद के लिए फिर से चुने गए। 2017 में वे चर्चा में आए। 2017 के महानगरपालिका चुनाव में शिवसेना-भाजपा का गठबंधन टूट गया। इसलिए दोनों पार्टियों ने अपने दम पर यह चुनाव लड़ा। उस समय परब ने भाजपा के हर हमले का करारा जवाब दिया। इस वजह से वे शिवसेना के कार्याध्यक्ष उद्धव ठाकर के खास बनते चले गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here