और वीर सावरकर के मार्ग पर चल पड़ा इजरायल! पढ़ें इजरायली पीएम की वो चेतावनी

गाजा से हमास के हमले के पश्चात इजरायल ने कड़े कदम की तैयारी कर ली है। इसके लिए पूरा इजरायल एकजुट है।

इजरायल ने गाजा में सक्रिय हमास के आतंकवादी संगठनों को मुंहतोड़ उत्तर देने की सार्वजनिक घोषणा कर दी है। इसके लिए उनका पूरा देश एक साथ, एक मंच पर खड़ा है। अपना सर्वस्व न्यौछावर करके भी वे राष्ट्र की विजय के लिए लड़ने को तैयार हैं। उनकी यह वृत्ति 2021 में हमारे समक्ष आई है, लेकिन हमारा राष्ट्र इस वृत्ति की जननी रहा है। सौ वर्ष पहले यहां वीर सावरकर ने राष्ट्रजनों से एकजुट होने का आह्वान किया था।

राष्ट्र क्या है और सैनिकीकरण कैसे राष्ट्र के लिए अत्यावश्यक है, इस विषय को स्वातंत्र्यवीर सावरकर अपने सम्पूर्ण जीवनकाल में समझाते रहे। जो विश्व युद्ध वर्षों पश्चात होना था उसका अंदेशा उन्होंने 1908 के लगभग ही व्यक्त कर दिया था। राष्ट्र की एकता के लिए उन्होंने कहा था…

समान शत्रु एकता के लिए आवश्यक होता है। आज यहूदी एक हो गए, वैसे ही हम नहीं हुए तो हमारा दुर्भाग्य ही है।

ये भी पढ़ें – अब कपिल कुमार ने पूछा क्या ये गांधी और नेहरू का अंग्रेजों से समझौता नहीं?

स्वातंत्र्यवीर सावरकर जिस इजरायल का प्रमाण दे रहे थे उस काल में, तब इजरायल राष्ट्र के रूप में स्थापित नहीं हो पाया था और यहुदी समुदाय यूरोप, अमेरिका में शरणागति लेकर रहता था। उस समय यहूदियों को एकत्रित करने की मुहिम चली और यहूदी एक हो गए। 1948 में उन्हें इजरायल के रूप में अपना देश प्राप्त हो गया।

सदा रहा इस्लामी आतंक के साए में
इजरायल इस्लामी लड़ाई का लंबे काल से सामना करता रहा है। छोटा राष्ट्र है, लेकिन उसके राष्ट्राभिमानियों के हौसले बहुत बुलंद हैं। स्वातंत्र्यवीर सावरकर के विज्ञाननिष्ठ धर्म की आवधारणा, सैनिकिकरण की आवश्यकता और एकता के सूत्र को उन्होंने सौ वर्ष पहले ही अपना लिया था। वह अब लाभकारी परिणाम दे रहा है।

आतंकियों के विरुद्ध अंतिम जयघोष
इजरायल के विरुद्ध प्रधानमंत्री बेजामिन नेत्यानाहु ने अंतिम युद्ध का घोष कर दिया है। वे इजरायली संसद को संबोधित कर रहे थे।

इस्माईल हानिया और हमास के नेताओं को लक्ष्यित कर इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेत्यानाहु ने कहा…

हम इजरायली लोग तुम्हारे अतिशय आभारी हैं। तुम वहां सफल हो गए जहां हम फेल हो गए थे। आधुनिक इजरायल के इतिहास में यहूदी जनता एक व्यक्ति के रूप में इस प्रकार कभी एक नहीं हुई थी। धार्मिक रूप से और अलग-अलग विचारों की हम यहूदी जनता समक्ष खड़े दुश्मन को पस्त करने के लिए एक हो गए हैं।

डरपोक लोगों की भांति नागरिकों के बीच छुपकर तुम जैसे-जैसे हमारे नागरिकों की हत्या करने के लिए घातक क्षेपणास्त्रों से हमपर हमले कर रहे हो वैसे-वैसे हमारा मनोबल अधिक दृढ़ हो रहा है, हममें एकजुटता आ गई है। अब हम यहूदी लोगों को पता है कि आपस में हमारे कितने भी मतभेद हों परंतु, हमारे समक्ष एक ही लक्ष्य है तुम्हें परास्त करने का।

हम तुम्हें अंतिम अवसर दे रहे हैं, अगले 24 घंटों में सभी प्रक्षेपास्त्र हमले, सभी का अर्थ है सभी थम जाने चाहिये। पूर्णता से और नित्य के लिए। मैं तुम्हें औपचारिक चेतावनी देता हूं कि हमारी वायुसेना और हमारे सैनिकों से भरी रण गाडियां गाजा की सीमा पर खड़ी हैं। हमने इसके पहले ही गाजा पट्टी के उत्तरी हिस्से में नागरिकों को अपने आने की सूचना देने के लिए पत्रक डाल दिये हैं। जिससे वे लोग वे उस स्थान को रिक्त कर दक्षिणी हिस्से में स्थानांतरित हो जाएं। यदि हमारी चेतावनी की ओर दुर्लक्ष किया गया तो हम आ ही रहे हैं, ऐसे समय में तुम्हारी रक्षा परमेश्वर ही करें क्योंकि इस बार हम कभी वापस नहीं लौटेंगे। उस भूमि का जीता हुआ प्रत्येक सेंटिमीटर हिस्सा सदा के लिए इज्रायल से जुड़ जाएगा इसका अर्थ है इसके पश्चात उस हिस्से से फिर कभी हमारे नागरिकों पर हमले नहीं होंगे।

ऐसा हुआ तब भी यदि तुम शांतिपूर्ण ढंग से शरणागति स्वीकार कर लोगे तो तुम्हारे लिए शरणागति और बातचीत के द्वार हमने खुले रखे हैं। जिस समय तुम शस्त्र संधि घोषित करोगे उस क्षण हमारी कृति थमेगी और नई सीमा रेखा निश्चित कर लेंगे। परंतु, यदि तुमने हमारे नागरिकों पर हमले जारी रखे तो हम गाजा पट्टी के दक्षिण की ओर कूच करेंगे और तुम्हें गाजा पट्टी से उखाड़कर फेंक देंगे, मतलब तुम फिर वहां से अपनी आंतकी गतिविधियां नहीं कर पाओगे।
तुम्हारे नागरिकों को बेघर होना पड़ेगा इसका मुझे अत्यंत दुख है। परंतु, ये हमने शुरू नहीं किया। हमारे पास दो पर्याय ही हैं। तुम्हें हम अपने नागरिकों पर वंशानुगत हमले और वंशानुगत हत्याएं करने दें या तुम्हारे नागरिकों को निर्वासित करें। मुझे दुख के साथ दूसरा पर्याय अपनाना पड़ेगा। तुमने हमसे जितना द्वेष किया उतना या उससे अधिक अपने नागरिकों से स्नेह किया होता तो यह युद्ध कभी होता ही नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here