भारतीय सेना भी करती है चीन में घुसपैठ, ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता ‘इस’ साहित्यकार के बिगड़े बोल

दो साल पहले, चीनी सेना ने गालवान घाटी पर आक्रमण किया और हिंसक लड़ाई लड़ी। उसके बाद हाल ही में 12 दिसंबर को चीनी सैनिकों ने अरुणाचल प्रदेश पर हमला किया।

देश में साहित्य के क्षेत्र में सर्वोच्च पुरस्कार माने जाने वाले ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता भालचंद्र नेमाड़े पिछले दो दिनों से अपने बेतुके बयान से विवादों में हैं। दो साल पहले, चीनी सेना ने गालवान घाटी पर आक्रमण किया और हिंसक लड़ाई लड़ी। उसके बाद हाल ही में 12 दिसंबर को चीनी सैनिकों ने अरुणाचल प्रदेश पर हमला किया और फिर से दोनों देशों के सैनिकों में हल्की झड़प हो गई।  ऐसे में भारत-चीन विवाद एक बार फिर सामने आ गया है। इस बीच भालचंद्र नेमाड़े ने कहा कि चीन भारत का दुश्मन नहीं है। उन्होंने बेतुका बयान दिय है कि जैसे चीनी सेना घुसपैठ करती है, वैसे ही भारतीय सेना भी चीन में घुसपैठ करती है।

भालचंद्र नेमाड़े ने क्या कहा?
“पड़ोसी देश में स्थिति को देखें। केवल रूस युद्ध लड़ रहा है, यूरोप में युद्ध कहां चल रहा है? रूस-यूक्रेन को छोड़कर सभी देशों शांति है। पहले हिटलर के जमाने में युद्ध होता था, अब अपने देश के अंदर ही युद्ध का माहौल है। कहा जा रहा है कि अपना देश अच्छा है और दूसरा देश बुरा है। अगर आप पाकिस्तान जाते हैं, तो वहां आप जैसे ही लोग हैं। वे गरीब हैं, जीवन यापन करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। उनकी पत्नियां उनके साथ काम करने जाती हैं। यदि युद्ध लड़ना है तो उन स्त्रियों पर बमबारी करनी पड़ेगी। सैनिकों को सैनिकों को मारना अलग बात है, लेकिन ऐसा नहीं है। चीन में भी ऐसा ही है। वहां भी बहुत गरीब लोग रहते हैं। कुछ महीनों के लिए मैं चीन में था। गरीब लोग अपना पेट भरने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। यह कहना गलत है कि चीन हमारा दुश्मन है। चीनी सरकार आपकी दुश्मन हो सकती है। यह गलत है कि उनके सैनिक हमारे पास आते हैं और हमें मार डालते हैं। भालचंद्र नेमाड़े ने कहा कि हमारे सैनिक भी ऐसा ही करते हैं और उनके सैनिक भी वैस ही करते हैं।”

लक्ष्मीकांत देशमुख ने क्या कहा?
भालचंद्र नेमाड़े के बयान का अखिल भारतीय साहित्य सम्मेलन के पूर्व अध्यक्ष प्रो. लक्ष्मीकांत देशमुख ने विरोध किया है। उन्होंने कहा,”जब हमने वाजपेयी सरकार के दौरान परमाणु परीक्षण किया था तो रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस ने कहा था कि चीन भारत का दुश्मन है। पाकिस्तान भी दुश्मन है। इन दोनों देशों ने हमारे देश पर 4 युद्ध थोपे हैं। अतः उन्हें शत्रु न मानना ​​गलत है। वहां के शासक, सेना के व्यवहार हमारे प्रति शत्रुतापूर्ण हैं। शी जिनपिंग आधा दर्जन देशों पर अपनी विस्तारवादी नीतियों के साथ भारत के खिलाफ भी आक्रामक नीति अपनाते हैं। इसलिए भारत को अपनी सेना को हमेशा तैयार रखना चाहिए। भारत में विकास और शांति के लिए सीमा को सुरक्षित किया जाना चाहिए।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here