धर्मनिरपेक्ष है मोदी सरकार! केंद्रीय मंत्री ने दिखाया आंकड़ों का आईना

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने विपक्ष पर अपने राजनीतिक फायदे के लिए धर्मनिरपेक्षता का इस्तेमाल करने और भारतीय संविधान के उद्देश्यों के साथ विश्वासघात करने का आरोप लगाया।

केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने धर्मनिरपेक्षता को अपने राजनीति के लिए इस्तेमाल करने के लिए विपक्ष की आलोचना की। उन्होंने कहा कि कुछ राजनीतिक दलों ने धर्मनिरपेक्षता को अपना राजनीतिक हथियार बना लिया है और संविधान के मूल ढांचे को तोड़ने का काम किया है। केंद्रीय मंत्री नकवी ने कहा कि धर्मनिरपेक्षता भाजपा की संवैधानिक और राष्ट्रीय जिम्मेदारी है। इसके अलावा, अल्पसंख्यकों के मामले में सरकार की भूमिका को साबित करने के लिए उन्होंने आंकड़े भी पेश किए।

नकवी के अनुसार मोदी सरकार की आवास परियोजना से लाभान्वित होने वाले दो करोड़ लोगों में से 31 फीसदी अल्पसंख्यक हैं, जबकि किसान सम्मान निधि प्राप्त करने वाले 12 करोड़ किसानों में से 33 फीसदी अल्पसंख्यक हैं।

विपक्ष पर धर्मनिरपेक्षता और संविधान का दुरुपयोग करने का आरोप
भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित करते हुए नकवी ने विपक्ष पर अपने राजनीतिक फायदे के लिए धर्मनिरपेक्षता का इस्तेमाल करने और भारतीय संविधान के उद्देश्यों के साथ विश्वासघात करने का आरोप लगाया। नकवी ने कहा, “कुछ लोगों ने धर्मनिरपेक्षता शब्द का इस्तेमाल केवल राजनीतिक लाभ के लिए किया है।”

कांग्रेस पर नाम लिए बिना साधा निशाना
नकवी ने कहा, “यदि आप भारतीय इतिहास के 75 वर्षों को देखें, तो आप पाएंगे कि कुछ राजनीतिक दलों ने अपने राजनीतिक लाभ के लिए धर्मनिरपेक्षता को हथियार के रूप में इस्तेमाल किया है। उन्होंने हमारे भारतीय संविधान के उद्देश्यों के साथ विश्वासघात किया है। अन्य दलों की तरह ही धर्मनिरपेक्षता भाजपा की भी संवैधानिक और राष्ट्रीय जिम्मेदारी है।”

पीएम की प्रशंसा
प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करते हुए, नकवी ने कहा, “पिछले सात वर्षों में, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने संवैधानिक मूल्यों के प्रति प्रतिबद्धता के साथ समावेशी सशक्तिकरण के लिए काम किया है। इसने यह सुनिश्चित किया है कि अल्पसंख्यकों सहित सभी लोग विकास प्रक्रिया में समान भागीदार बनें।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here