क्या अब खत्म होगा एसटी आंदोलन? सरकार ने हड़ताली कर्मियों को दिया ऐसा अल्टीमेटम

महाराष्ट्र सरकार के वेतन वृद्धि और वेतन गारंटी जैसी मांगों पर सहमत होने के बाद भी आंदोलनकारी एसटी निगम को राज्य सरकार में विलय की मांग पर अड़े हुए हैं।

महाराष्ट्र राज्य परिवहन सेवा के कर्मचारियों का आंदोलन एक महीने से ज्यादा समय से जारी है। इस कारण यात्रियों को भारी परेशानी उठानी पड़ रही है। वे राज्य सरकार के वेतन वृद्धि और वेतन गारंटी जैसी मांगों पर सहमत होने के बाद भी  एसटी निगम को राज्य सरकार में विलय की मांग पर अड़े हुए हैं। काम पर नहीं लौटने वाले करीब 10 हजार कर्मचारियों को अब तक निलंबित कर दिया गया है। हालांकि, अब राज्य सरकार ने कर्मचारियों को अल्टीमेटम दिया है। राज्य के परिवहन मंत्री अनिल परब ने प्रेस वार्ता में इस संबंध में जानकारी दी।

अनिल परब ने प्रेस कांफ्रेंस में एसटी हड़ताल को लेकर राज्य सरकार की भूमिका स्पष्ट की। उन्होंने कहा, “हमने महाराष्ट्र के सभी डीसी से बात की। कर्मचारी उनके पास जाते हैं और कहते हैं कि हम काम पर आना चाहते हैं लेकिन कुछ लोग हमें काम पर नहीं आने देते। कुछ लोग कहते हैं कि हम काम पर नहीं जा सकते क्योंकि हम निलंबित हैं। इसलिए सभी अधिकारी कह रहे हैं कि एक मौका दिया जाना चाहिए। “

काम पर लौटने वालों को दी जाएगी ऐसी सुविधा
परब ने कहा, “हमने 13 दिसंबर तक काम पर लौटने वाले कर्मियों का निलंबन हटाने का फैसला किया है।” जहां डिपो 50 प्रतिशत से अधिक चालू है, उन्हें उसी डिपो में नियोजित किया जाएगा। लेकिन जहां इतने कर्मचारी नहीं होंगे, उन्हें आसपास के डिपो में ड्यूटी पर भेजा जाएगा। ”

अंतिम मौका
परिवहन मंत्री ने 13 दिसंबर तक काम पर नहीं लौटने वाले कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है। उन्होंने कहा, ” हमने किसानों को एक अंतिम मौका देने का फैसला किया है ताकि कल वे यह न कहें कि हमें मौका नहीं मिला, इसलिए हम आत्महत्या कर रहे हैं। यदि किसी कर्मचारी को काम पर आने से रोक जाता है तो वह तत्काल नजदीकी पुलिस थाने में संपर्क करें या डिपो प्रबंधक को सूचित करें। बाधा डालने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।”

ये भी पढ़ेंः 2024 में कौन होगा महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री? शरद पवार ने जितेंद्र आव्हाड को बताया

मेस्मा के तहत कार्रवाई
परिवहन मंत्री ने कहा,”13 दिसंबर के बाद कानूनी कार्रवाई की जाएगी। पहले निलंबन, फिर जांच। प्रशासन तब तय करेगा है कि कर्मचारियों को निकाल दिया जाए या काम पर रखा जाएगा। हम इंसानियत के लिहाज से एक और मौका देने की कोशिश कर रहे हैं। इसके बाद भी अगर वे नहीं आते हैं तो मेस्मा के तहत कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here