कृषि कानूनों पर ‘शाह’ ने क्या कहा?… जानिये

गृह मंत्री अमित शाह ने दावा किया कि तीनों कृषि कानून किसानों की आय कई गुना बढ़ाने में सहायक साबित होंगे। अब वे देश-दुनिया के किसी भी कोने में वे अपने उत्पाद बेच सकते हैं

कर्नाटक के बागलकोट में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एक बार फिर कृषि कानूनों को लेकर किसानों को भरोसा दिलाने की कोशिश की। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार किसानों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है। शाह ने दावा किया कि तीनों कृषि कानून उनकी आय कई गुना बढ़ाने में सहायक साबित होंगे। अब वे देश-दुनिया के किसी भी कोने में अपने उत्पाद बेच सकते हैं।

कांग्रेस पर साधा निशाना
शाह ने किसानों को शह देने के लिए कांग्रेस को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि जब कांग्रेस की सरकार थी तो किसानों को क्यों छह-छह हजार नहीं दिए गए।

दो दिवसीय दौरे पर शाह
शाह ने 17 जनवरी को बगलकोट जिले के करकलमट्टी गांव में केदारनाथ शुगर एंड एग्रो प्रोडक्ट्स लिमिटेड की इथेनॉल परियोजना का उद्घाटन किया। इसके साथ ही जिले के केएलई अस्पताल के उन्नत सिमुलेशन केंद्र का भी उद्घाटन किया। बाद में उन्होंने जेएनएमसी ग्राउंड में आयोजित एक रैली में हिस्सा लिया। बता दें कि वे 16 जनवरी को दो दिवसीय दौरे पर कर्नाटक पहुंचे थे। उन्होंने 16 जनवरी को रैपिड एक्शन फोर्स की आधारशीला रखी।

कृषि कानून वापस लेने को छोड़कर सभी मुद्दों पर बातचीत के लिए तैयार सरकार
इस बीच कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अड़े किसानों के सामने सरकार का रुख स्पष्ट किया है। उन्होंने कहा है कि सरकार किसानों से सभी मुद्दों पर बात करने को तैयार है,लेकिन कानून वापस नहीं लिए जाएंगे।

किसान मानने को तैयार नहीं
दूसरी ओर किसान संगठनों ने एक बार फिर विरोध प्रदर्शन जारी रखने का ऐलान किया है। उनका कहना है कि जबतक तीनों कृषि कानून वापस नहीं लिए जाते, तबतक उनका विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here