यातायात के लिए नए साल से पहले नहीं खुल पाएंगे गाजीपुर,सिंघु बॉर्डर! ये हैं कारण

किसानों के कृषि कानूनों के रद्द करने से लेकर एमएसपी गारंटी देने तक की सभी मांगें सरकार ने सैद्धांतिक रुप से मान ली है।

एक साल से अधिक समय से जारी किसानों का आंदोलन तो खत्म हो गया है, लेकिन दिल्ली से सटे बॉडर्स को यातायत के लिए पूरी तरह अभी खुलने की संभावना नहीं है।

नेशनल हाइवेज अथॉरिटी ऑफ इंडिया यानी एनएचएआई ने बताया दिल्ली-गजियाबाद को जोड़ने वाला गाजीपुर बॉर्डर और नेशनल हाइवे 44- सिंघु बॉर्डर किसानों के आंदोलन के कारण बंद थे। अब किसान इन स्थानों से जा चुके हैं और बचे हुए तंबू तथा जत्थे भी एक-दो दिन में हट जाएंगे, लेकिन ये दोनों बॉर्डर जनवरी तक ही खुल पाएंगे। इसका कारण यह है कि किसानों को रोकने के लिए पुलिस ने जो पक्के बैरिकेड बनाए हैं, उन्हें हटाने के साथ ही मरम्मत के काम पूरा होने के बाद ही ये खोले जाएंगे।

एनएचएआई ने दी जानकारी
एनएचएआई ने बताया की किसानों के पूरी तरह हटने के बाद सीमा का निरीक्षण किया जाएगा। इसके साथ ही एनएच को हुए नुकसान की मरम्मत भी की जाएगी। इन सब काम में समय लगेगा और नए साल की जनवरी में ही लोग इस पर सफर कर पाएंगे।

ये भी पढ़ेंः रक्षा मंत्री ने 1971 के योद्धा की पत्नी के छुए पैर, कही दिल को छू लेने वाली ये बात!

किसानों के अधिकांश मांगें पूरी
बता दें कि किसानों के कृषि कानूनों के रद्द करने से लेकर एमएसपी गारंटी देने तक की सभी मांगें सरकार ने सैद्धांतिक रुप से मान ली है। कृषि कानूनों को शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन 29 नवंबर को रद्द कर दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here