ईडी समन प्रकरण: अनिल देशमुख के हाजिर होने पर संशय

मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह द्वारा अनिल देशमुख पर सौ करोड़ रुपए की वसूली के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया गया है। इस प्रकरण की जांच के बीच ही बार मालिकों से चार करोड़ रुपए वसूलने का प्रकरण सामने आया है।

महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के दो सहायकों को प्रवर्तन निदेशालय ने गिरफ्तार कर लिया है। केंद्रीय एजेंसी ने देशमुख को भी पेश होने के लिए सबेरे 11 बजे का समय दिया था, परंतु वे पेश नहीं हुए। इस विषय में वकील ने बताया कि उन्होंने कुछ जानकारियां मांगी हैं।

अनिल देशमुख को सबेरे 11 बजे प्रवर्तन निदेशालय ने बुलाया था। इस संदर्भ में शुक्रवार को भी अनिल देशमुख के पांच से छह ठिकानों पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने छापा मारा था, उनके नागपुर निवास पर एजेंसी ने लगभग दस घंटे परिवारजनों से पूछताछ की।

ये भी पढ़ें – भारत के विरुद्ध ‘आतंकवाद’ और ‘आतंकी मैगजीन’… जानें ‘किसान’ से ‘जवान’ तक कैसे हैं सभी निशाने पर

वकील का बयान आया सामने
शनिवार सुबह 11 बजे अनिल देशमुख प्रवर्तन निदेशालय में प्रस्तुत नहीं हुए। इस संबंध में पूर्व गृह मंत्री के वकील का बयान सामने आया है, जिसमें वकील जयवंत पाटील ने बताया कि, हमें किस प्रकरण में बुलाया है, यह हमें नहीं पता। हमने कागज मांगे हैं। वकील के इस बयान के बाद देशमुख के एजेंसी के सामने तत्काल प्रस्तुत होने पर संशय बन गया है।

शुक्रवार को प्रवर्तन निदेशालय की पूछताछ खत्म होने के बाद मुंबई के सुखदा निवास से बाहर आकर अनिल देशमुख ने मीडिया से बातचीत की थी। उन्होंने आरोप लगाया है कि, परमबीर सिंह को पद हटाने के बाद उन्होंने मुझ पर झूठे आरोप लगाए हैं। परमबीर सिंह को मुकेश अंबानी के घर के पास मिली विस्फोटक लदी गाड़ी और मनसुख हिरेन की हत्या के प्रकरण में संशयास्पद भूमिका के कारण हटाया गया था।

सहायकों पर कार्रवाई
एजेंसी ने पूछताछ के लिए अनिल देशमुख के स्वीय सहाय संजीव पलांडे और निजी सहायक कुंदन शिंदे को बुलाया था और शुक्रवार देर शाम उन्हें गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद से अनिल देशमुख पर भी कार्रवाई की आशंका बढ़ गई है। सूत्रों के अनुसार एजेंसी की ओर से बताया गया कि अनिल देशमुख के दोनों सहायक जांच में सहयोग नहीं कर रहे थे।

ये भी पढ़ें – ऐसे हुई अनिल देशमुख के ‘नाम’ और ‘बदनाम’ की कमाई

बार मालिकों से वसूली
इस बीच अनिल देशमुख के सिर एक और आरोप लग गया है। उन पर लगभग दस बार मालिकों से चार करोड़ रुपए की उगाही करने का आरोप लगा है, जिसमें प्रवर्तन निदेशालय ने बार मालिकों के बयान दर्ज किये हैं।

सूत्रों के अनुसार एजेंसी ने अनिल देशमुख के वित्तीय लेनदेन की भी जांच की है। इसके अलावा नागपुर के सागर भटेवार के घर पर भी छापा मारा था। अनिल देशमुख की कई कंपनियों में सागर भटेवार निदेशक हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here