उत्तर प्रदेश में कब होगा चुनाव? आयोग ने बताया

चुनाव आयुक्त ने महिला मतदाताओं की सुरक्षा पर विशेष ध्यान देने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि कुछ पार्टियों ने चुनाव से जुड़े अधिकारियों पर पक्षपात करने का आरोप लगाया है।

चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश में तीन दिनों तक चुनावी तैयारियों का जायजा लेने के बाद कहा है कि यूपी में चुनाव समय पर कराए जाएंगे। आयोग ने कहा कि सभी राजनीतिक पार्टियां यहां समय पर चुनाव चाहती हैं।

प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा कि सभी राजनीतिक पार्टियों से राय ली गई है। इसके साथ ही पुलिस विभाग से भी तैयारियों के बारे में जानकारी ली गई है।

समय पर चुनाव
मुख्य चुनाव आयोग ने कहा कि सभी पार्टियां कोरोना के नियमों का पालन करते हुए समय पर चुनाव कराने की पक्षधर हैं। उन्होंने कुछ रैलियों में कोरोना के नियमों का पालन नहीं किए जाने पर चिंता जताई।

इनसे चर्चा कर चुनाव आयोग ने ली जानकारी
चुनाव आयुक्त ने महिला मतदाताओं की सुरक्षा पर विशेष ध्यान देने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि कुछ पार्टियों ने चुनाव से जुड़े अधिकारियों पर पक्षपात करने का आरोप लगाया है। इसके साथ ही अधिकांश पार्टियों ने चुनाव के दौरान धन-बल और शराब आदि के इस्तेमाल पर चिंता जताई है। चुनाव आयोग ने बताया कि राजनीतिक पार्टियों के साथ चर्चा करने के बाद सभी एसपी, डीआईजी और कमिश्नर से मिलकर स्थिति के बारे में जानकारी ली गई। इनके साथ ही मुख्य सचिव, डीजीपी और अन्य अधिकारियों से भी उनके विचार लिए गए।

चुनाव की खास बातें

  • यूपी में लगभग 15 करोड़ मतदाता हैं।
  • इनमें 52 लाख से अधिक नए मतदाता हैं।
  • 5 जनवरी तक अंतिम मतदाता सूची जारी की जाएगी।
  • कोरोना के कारण बुथों पर भीड़ को नियंत्रित किया जाएगा।
  • इसके लिए पोलिंग बुथों की संख्या 11 हजार तक बढ़ाया जाएगा।
  • बुजुर्गों-दिव्यांगों और कोरोना संक्रमितों को घर से मतदान करने की सुविधा होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here