मोदी सरकार ने श्रमिकों का जीवन बनाया आसान, हित में लिए कई बड़े निर्णय

उत्तर प्रदेश के मंत्री अनिल राजभर ने कहा कि पंक्ति के अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति के जीवन में बदलाव लाने के लिए मोदी एवं योगी सरकार पूरी तरह से संकल्पित है।

प्रदेश के श्रम एवं सेवायोजन मंत्री अनिल राजभर ने कहा कि पंक्ति के अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति के जीवन में बदलाव लाने के लिए मोदी एवं योगी सरकार पूरी तरह से संकल्पित है। इसी का परिणाम रहा कि 2014 के बाद श्रमिकों के जीवन में बदलाव आया है। अब उनमें खुशहाली देखने को मिल रही है।

अनिल राजभर 1 मई को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में श्रमिक विभाग द्वारा आयोजित श्रम कल्याण बोर्ड के पंजीकृत निर्माण श्रमिकों एवं उनके पुत्र-पुत्रियों को योजनाओं का लाभ देने के लिए कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किये। इस दौरान उन्होंने कहा कि पूरे देश में इस दिवस को श्रमिकों के सम्मान में मजदूर दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। कोविड के दौरान भी श्रमिकों के जीवन में निराशा न आये इसके लिए उन्हें धनराशि देकर सहायता की गयी। प्रदेश में असंगठित क्षेत्र के मजदूरों को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने के लिए योगी सरकार के प्रयासों से 8 करोड़ से ज्यादा श्रमिकों ने ई-श्रम पोर्टल पर पंजीकरण कराया है।

ये भी पढ़ें – 1 मई महाराष्ट्र दिवसः राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने दीं शुभकामनाएं, कही ये बात

उन्होंने निर्माण कामगार मृत्यु एवं विकलांगता सहायता योजना में पात्र 20 श्रमिकों को 40 लाख रुपए, निर्माण कामगार अन्त्येष्ठि सहायता योजना में पात्र 20 श्रमिकों को 05 लाख रूपये, कन्या विवाह सहायता योजना में पात्र 07 लाभार्थियों को 3.85 लाख रूपये, संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के तहत कक्षा 9, 10, 11 एवं 12वीं पास श्रमिक पुत्र-पुत्रियों को 7.76 लाख रूपये की 194 साइकिल वितरित किया। इस प्रकार कुल 241 लाभान्वित श्रमिकों को 56.61 लाख रूपये की धनराशि वितरित की गई।

विशिष्ट अतिथि श्रम एवं सेवायोजन राज्यमंत्री मनोहरलाल पंथ ’’मन्नू कोरी’’ ने कहा कि केन्द्र एवं प्रदेश सरकार श्रमिकों के हितार्थ कार्य कर रही है। श्रमिकों का सम्मान बढ़ाने के लिए एवं उनके बच्चों को अच्छी शिक्षा देने की योजनाओं पर कार्य कर रही है। इस दौरान श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष सुनील भराला ने कहा कि श्रमिक विपरीत परिस्थितियों में भी मेहनत करता है और अपनी मेहनत के बल पर समाज एवं राष्ट्र का निर्माण करता है। कारखानों एवं निर्माण कार्यों में कार्य करने वाले श्रमिकों के लिए केन्द्र एवं प्रदेश सरकार की मंशा इनके जीवन में बदलाव लाने की है।

कार्यक्रम में सामाजिक सुरक्षा बोर्ड के अध्यक्ष रघुराज प्रताप सिंह ने कहा कि श्रमिक देश का भाग्य विधाता है। श्रमिक के बगैर कोई कार्य नहीं हो सकता। हमारी संस्कृति जीयो और जीने दो के सिद्धांत पर आधारित है, इसी संकल्प के साथ हम सभी को साथ लेकर आगे बढ़ रहे हैं।

अपर मुख्य सचिव, श्रम एवं सेवायोजन सुरेश चन्द्रा ने कहा कि दुनिया भर में श्रम शक्ति का सम्मान किया जाये, इसी के लिए आज के दिन श्रम दिवस मनाया जाता है। श्रमिकों के जीवन में खुशहाली आये और उनके आश्रितों को सम्मानजनक जीवन मिले इसके लिए श्रम विभाग द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ उन्हें समय से पहुॅचाया जा रहा है।

इस दौरान श्रमायुक्त डॉ. राजशेखर ने कहा कि श्रमिकों की सामाजिक सुरक्षा को और बेहतर बनाने के लिए उनके जीवन को उन्नतिशील बनाने के लिए आज के दिन इस मंच का प्रयोग विचार के लिए किया गया। यह सराहनीय कदम है। इस अवसर पर बीओसी बोर्ड के सचिव विपिन जैन ने कहा कि श्रमिकों ने ही अपने खून-पसीने की मेहनत से इस संसार को खूबसूरती से बनाया है। कार्यक्रम में उप श्रमायुक्त शमीम अख्तर, पंकज राणा, किरण मिश्र, सहायक श्रमायुक्त एम0के0 पाण्डेय आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here