फडणवीस ने बताया कैसे ठाकरे सरकार को छोड़ गए बच्चू कडू, बताया किसने किया फोन पर राजी?

अमरावती में राजनीतिक घमासान के शांत होने की आशा है। मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री ने एक साथ इस प्रकरण में लक्ष्य केंद्रित किया है।

महाराष्ट्र के अमरावती में मचे राजनीतिक घमासान में उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने प्रहार जनशक्ति के विधायक बच्चू कडू और निर्दलीय विधायक रवि राणा के बीच शब्दिक युद्ध पर बोलते हुए बताया कि गुवाहाटी में बच्चू कडू किसके फोन पर गए थे।

मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के साथ गए 40 विधायकों पर विपक्ष में बैठी महाविकास आघाड़ी सरकार नियमित शाब्दिक हमले करती रही है। विधायकों पर विधान सभा सत्र के काल में खोखे सरकार कहकर टिप्पणी की गई, उद्धव ठाकरे की शिवसेना के नेता खोखे सरकार के अलावा गद्दार की संज्ञाओं से उच्चारित करते हैं। ऐसे में उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने एक बड़ी राज की बात का खुलासा किया है। जिसमें उन्होंने प्रहार जनशक्ति के नेता व विधायक बच्चू कडू के गुवाहाटी जाकर एकनाथ शिंदे के गुट का साथ देने का कारण बताया।

एक फोन पर गए गुवाहाटी
देवेंद्र फडणवीस ने बताया कि, बच्चू कडू को उन्होंने निजी रूप से फोन किया था। जिसमें उन्होंने सरकार बनाने में सहयोग देने की बात कही। जिसे उद्धव ठाकरे सरकार में मंत्री रहे विधायक बच्चू कडू ने स्वीकार किया और वे गुवाहाटी गए। इस प्रकरण में फडणवीस ने स्पष्ट किया कि, बच्चू कडू पर आरोप लगाना बिल्कुल गलत है। वे मात्र एक फोन पर सहयोग मांगने पर राजी हो गए और समर्थन दे दिया।

ये भी पढ़ें – महाराष्ट्र: शिवसेना उद्धव गुट की बढ़ेंगी मुश्किलें, कैग ने लिया ये निर्णय!

मान गए बच्चू कडू और रवि राणा
उपमुख्यमंत्री ने अमरावती के राजनीतिक घमासान पर बताया कि, मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उन्होंने विधायक बच्चू कडू और विधायक रवि राणा को बुलाया था। दोनों ही नेताओं से आपसी सौहार्द बनाए रखने के लिए बोले। जिसे दोनों ही नेताओं से स्वीकार किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here