मराठवाडा में मनोमिलन… महाराष्ट्र में युति के संकेत तो नहीं?

भाजपा और शिवसेना की युति 2019 में टूट गई थी, जब शिवसेना ने कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस के साथ मिलकर राज्य में सरकार बना ली। जबकि, विधान सभा चुनाव शिवसेना ने भाजपा के साथ मिलकर लड़ा था।

मराठवाडा मुक्ति संग्राम दिवस के अवसर पर एक साथ मंच पर वर्तमान और पूर्व के सहयोगी थे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भविष्य के सहयोगी को लेकर बड़ी बात कह दी। इससे राजनीतिक क्षेत्र में कयासों का दौर शुरू हो गया है। मंच पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, रेल राज्यमंत्री राव साहेब दानवे, गार्जियन मिनिस्टर सुभाष देसाई, कांग्रेस नेता और राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात, विधायक अब्दुल सत्तार, एमआईएम के सांसद इम्तियाज जलील उपस्थित थे।

मंच पर भाषण के लिए खड़े हुए मुख्यमंत्री ने कहा, मंच पर उपस्थित वर्तमान-पूर्व और साथ आए तो भावी सहयोगी। मुख्यमंत्री इस बीच लगातार मंच पर बैठे भाजपा नेता रावसाहेब दानवे की ओर देखते रहे। इस दौरान शिवेसना की वर्तमान सहयोगी कांग्रेस के मंत्री बालासाहेब थोरात भी मंच पर थे। परंतु, मुख्यमंत्री बुलेट ट्रेन के भाषण में बहुत कुछ बोल गए। इसके पहले अपने भाषण में रेल राज्यमंत्री रावसाहेब दानवे ने मुंबई-नागपुर बुलेट ट्रेन के लिए मुख्यमंत्री की सहायता मांगी थी।

ये भी पढ़ें – पीएम के जन्मदिन पर भाजपा की बड़ी तैयारी! 5 लाख पोस्टकार्ड,21 दिनों तक भव्य कार्यक्रम….

हमारे स्टेशन पर आ सकते हैं
मुख्यमंत्री ने कहा, मेरी राजधानी ओर उपराजधानी को जोड़नेवाला माध्यम बुलेट ट्रेन होगा तो मैं आपके साथ हूं।
मुझे रेलवे पसंद है क्योंकि, रेलवे को रेल पटरी होती है। पटरी छोड़कर इंजन कहीं नहीं जा सकता। उसमें डायवर्जन मारकर हमारे स्टेशन पर आ सकते हैं।

रावसाहेब ने भी लगाई सत्तार क्लास
जब मैं स्टेज पर बैठा, आपमें से कोई राजनीतिज्ञ नहीं था। आप मुझसे अपेक्षा करते हैं, वैसे ही मैं भी आपसे अपेक्षा रखता हूं। मुंबई-नागपुर बुलेट ट्रेन की प्रस्तुति हमने तैयारी की है, इसमें मात्र 35 प्रतिशत अतिरिक्त भूमि हमें लगनेवाली है। यह प्रस्तुति लेकर मैं आपसे (मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे) मिलनेवाला हूं। उसे मान्यता दीजिये।

अब्दुल सत्तार ने कुछ मांग रखी हैं। मराठवाडा अब पिछड़ा नहीं है, हमारी सरकार ने बहुत निधि आबंटित की है। समृद्धि महामार्ग, नांदेड महामार्ग भी हमने मंजूर किया। सोलापुर से धुलिया रेल मार्ग नहीं हुआ तो रावसाहेब दानवे को मतदान मत करो, ऐसा अब्दुल सत्तार ने कहा। इसके बाद मैंने भी कहा सिलोड जिला नहीं बनता को अब्दुल सत्तार को भी मतदान मत करिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here