तो पाकिस्तान में मिसाइल हमला करेगा चीन

चीन के नागरिकों के मारे जाने के बाद पाकिस्तान में चल रही परियोजनाओं में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर चीन चिंतित है। वह अपने कर्ज में दबे पाकिस्तान पर दबाव बनाकर रखना चाहता है।

चीन की ओर से पाकिस्तान को बड़ी धमकी मिली है। जिसमें चीनी मिसाइलें पाकिस्तान के आतंकियों को मारने के लिए प्रयोग करने की बात कही गई है। यह धमकी पाकिस्तान में चीन के नौ नागरिकों की धमाके में हुई मौत के बाद दी गई है।

पाकिस्तान के खैबर पख्तूनवां प्रांत में बने हाइड्रो पावर परियोजना पर चीन के 40 सदस्य बस से जा रहे थे। इस बीच बस में विस्फोट हो गया। जिसमें चीन की ओर से कहा गया है कि उसके 13 कर्मचारी मारे गए हैं। चीन ने इसे आतंकी घटना बताते हुए आतंकियों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

ये भी पढ़ें – जानिये, भगोड़े नीरव मोदी, मेहुल चोकसी और विजय माल्या की संपत्ति बेचकर अब तक कितने करोड़ की हुई रिकवरी!

चीनी प्रवक्ता ने कार्रवाई करने को कहा
चीन के विदेश विभाग के प्रवक्ता झाओ लीजियन ने पाकिस्तान से इस आतंकी कार्रवाई के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने को कहा है। उन्होंने चीन के नागरिकों की सुरक्षा करने को भी कहा है।

और चेले शक्कर हो गए
चीन विदेश विभाग की चेतावनी के बाद वहां की सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स ने इससे कई कदम बढ़ते हुए पाकिस्तान को सीधे-सीधे धमका दिया है।

ग्लोबल टाइम्स के मुख्य संपादक, हू शीजिन ने पाकिस्तान से कहा है कि वह आतंकियों पर सीधे कार्रवाई करे, यदि पाकिस्तान की ताकत कम पड़ती है तो चीन की मिसाइल और स्पेशल फोर्सेज कार्रवाई करेंगी।

चीन के साथ पर पुराना राग
आतंकवाद को लेकर चीन के पुराने राग का आलाप ही चल रहा है। विश्व के आगे आतंक पर झूठ बोलनेवाले पाकिस्तान ने अपने आका चीन के साथ वही रास्ता अपनाया है। पाकिस्तान ने कहा है कि, बस तकनीकी खराबी के कारण नाले में गिर गई, इससे बस में गैस रिसाव हो गया और धमाका हो गया। बस 40 चीनी कर्मचारियों को लेकर खैबर पख्तूनवा प्रांत के हाइड्रो पावर परियोजना जा रही थी। अब जहां चीन इस धमाके को आतंकी घटना बता रहा है और कड़ी कार्रवाई करने के लिए चेतावनी दी है वहीं, पाकिस्तान इसे गैस रिसाव से हुआ धमाका बताकर अपना पल्ला झाड़ रहा है।

चीन ने किया है बड़ा निवेश
चीन ने पाकिस्तान में हजारो करो़ड़ का निवेश किया है। वह चाइना पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरीडोर (सीपीईसी) पर हजारो करोड़ रुपए खर्च कर रहा है। इसके माध्यम से संसाधन विकास करके व्यापारी चीन अपना माल वहां बेचने के प्रयत्न में है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here