मुख्यमंत्री खाते रहे कोड़े… अंगरक्षक मूक दर्शक बने रहे

भारत में अलग-अलग परंपराओं का देश है। जहां पर्व मानव कल्याण के लिए ही नहीं बल्कि, जीव कल्याण और पर्यावरण कल्याण के दिग्दर्शक हैं।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने एक के बाद एक आठ कोड़े खाए। वे यह कोड़े सार्वजनिक स्थान पर खाते रहे और उनके अंगरक्षक व पूरा प्रशासन देखता रहा। वे दुर्ग जिले के जंजगिरी गांव में गए हुए थे।

दीपावली के दूसरे दिन छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दुर्ग जिले के जंजगिरी गांव गए थे। यहां एक प्राचीन परंपरा है कि यहां के सोटे खाकर मंगल कामना पूरी होती है। बस, मुख्यमंत्री बघेल भी वहां पहुंच गए सोटे (कोड़े) खाने। मुख्यमंत्री को एक के बाद एक आठ सोटे लगे।

ये भी पढ़ें – कुशासन है बाबू! बिहार में माफिया बांट रहा मौत?

निभाई गई परंपरा
जंजगिरी गांव की परंपरा रही है कि यहां, गोवर्धन पूजा के दिन सोटे की मार खानी पड़ती है। यह मंगलकारी माना जाता है। इस बार गांव के बीरेंद्र ठाकुर ने सोटे से प्रहार करके यह प्रथा निभाई। यह सोटा कुश का बना होता है। जिसकी मार भी पीड़ादायी होती है। इस पर्व की मान्यता है कि जितना समृद्ध गोवंश होगा उतनी ही समृद्धि आएगी। यह गोवंश के प्रति कृतज्ञता का प्रतीक भी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here