गैर-कृषि क्षेत्र में स्टार्ट अप उद्यमशीलता को सहायता

स्टार्ट-अप ग्राम उद्यमिता कार्यक्रम के अंतर्गत ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के भाग के रूप में, 102 सामुदायिक संसाधन व्यक्तियों – उद्यम संवर्धन (सीआरपी-ईपी) को 29 अक्टूबर – 4 नवंबर, 2021 के दौरान प्रमाणित किया गया।

स्टार्ट-अप ग्राम उद्यमिता कार्यक्रम (एसवीईपी), दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (डीएवाई-एनआरएलएम) कार्यक्रम के अंतर्गत उप-योजना, स्वयं सहायता समूह (एसएचजी) के सदस्यों और उनके परिवार के सदस्यों को गैर-कृषि क्षेत्र में छोटे उद्यम स्थापित करने में सहायता प्रदान करती है।

ये भी पढ़ें – प्रधानमंत्री पांचवी बार, बाबा केदारनाथ के द्वार… यह यात्रा सबसे महत्वपूर्ण

उद्यम विकास का वातावरण निर्मिति
एसवीईपी ग्रामीण क्षेत्रों में उद्यम विकास के लिए एक ईकोसिस्टम विकसित करता है जिसमें उद्यम वित्त पोषण के लिए सामुदायिक उद्यम निधि (सीईएफ), व्यावसायिक सहायता सेवाएं प्रदान करने के लिए सामुदायिक संसाधन व्यक्तियों-उद्यम संवर्धन (सीआरपी-ईपी) का संवर्ग शामिल है। इसमें व्यावसायिक योजनाओं की तैयारी, प्रशिक्षणों, उद्यमियों को जानकारी प्रदान करने के लिए बैंकों आदि से ऋण प्राप्त करना और ब्लॉक स्तर पर समर्पित केंद्र स्थापित करने के लिए सहायता करना शामिल है। ।

ऐसे होता है चयन
सीआरपी-ईपी को उस समुदाय से चुना जाता है जहां कार्यक्रम लागू किया जा रहा है क्योंकि वे स्थानीय संदर्भ और एनआरएलएम ईकोसिस्टम के साथ उनका परिचय समझते हैं। कार्यक्रम को लागू करने के लिए ब्लॉक स्तर पर ब्लॉक कार्यक्रम प्रबन्धक (बीपीएम) और मेंटर के साथ सीआरपी-ईपी प्रमुख मानव संसाधन हैं। वे उद्यम विकास, व्यवसाय योजना तैयार करने, बाजार से जुड़ाव और उद्यमियों को समर्थन पर सीबीओ के दिशानिर्देश के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

ये भी पढ़ें – देश के बाल क्रांतिवीरों को सम्मान… वह मांग हुई पूरी

प्रशिक्षण भी प्राथमिकता
उद्यमियों के साथ काम शुरू करने से पहले सीआरपी-ईपी को प्रशिक्षित किया जाता है। यह प्रशिक्षण, कक्षा और क्षेत्र प्रशिक्षण का मिश्रण है और इसकी कुल अवधि 56 दिनों की है। एक बार जब वे कक्षा सत्र के माध्यम से एक घटक में प्रशिक्षण प्राप्त कर लेते हैं, तो उनके पास क्षेत्र कार्य के घटक होते हैं जहाँ वे कुछ सीखों को व्यवहार में लाने का प्रयास करते हैं।

इन प्रमाणन कार्यक्रमों के दौरान, सीआरपी-ईपी ने एसवीईपी योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में उद्यम संवर्धन के अपने अनुभव साझा किए। उन्होंने व्यवसाय करने के चरणों को समझने और इसे सफल बनाने और ग्रामीण उद्यमों के लिए मजबूत बाजार संबंध बनाने के लिए योजना के तहत उन्हें प्रदान किए जाने वाले विभिन्न प्रशिक्षण, क्षमता निर्माण और नियमित रूप से सहायता प्रदान करने के बारे में भी चर्चा की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here