बीजेपी ने क्यों कहा आंध्र में ‘राम विरुद्ध रोम’?

आंध्र प्रदेश में बड़ी संख्या में बीजेपी कार्यकर्ताओं को 5 जनवरी को हिरासत में लिया गया था जब उन्होंने राज्यस्तरीय प्रदर्शन करने की कोशिश की। ये 29 दिसंबर को सीता लक्ष्मण कोदंदरमा मंदिर में तोड़फोड़ के विरोध में था।

भारतीय जनता पार्टी के नेता सुनील देवधर आंध्र प्रदेश के राम तीर्थम में गए थे। जहां उन्हें रोक दिया गया। इससे क्रोधित सुनील देवधर ने अब मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी पर राम विरुद्ध रोम की नीति चलाने का आरोप लगाया है।

बीजेपी का दल विजियंगरम जिले में सीता लक्ष्मण कोदंदरमा मंदिर में भगवान राम की मूर्ति के अपमान के बाद वहां दौरे पर जा रहा था। इस बीच उन्हें पुलिस ने रोक दिया। पुलिस पर बीजेपी ने धक्कामुक्की करने का आरोप लगाया है। इस धक्कामुक्की में आंध्र प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष सोमू वीरराजू बेहोश हो गए थे।

इस मुद्दे पर अपना तीव्र विरोध करते हुए राज्य बीजेपी के महामंत्री विष्णु वर्धन रेड्डी ने कहा कि, ऐसे लगता है कि हम पाकिस्तान में रहते हैं। मंदिरों पर हमले की चिंता ही सरकार को नहीं है।

बता दें कि आंध्र प्रदेश में बड़ी संख्या में बीजेपी कार्यकर्ताओं को 5 जनवरी को हिरासत में लिया गया था जब उन्होंने राज्यस्तरीय प्रदर्शन करने की कोशिश की। 29 दिसंबर को सीता लक्ष्मण कोदंदरमा मंदिर के पुजारियों ने देखा था कि मंदिर के द्वार टूटे हुए थे और गर्भगृह में सभी चीजें क्षतविक्षत थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here