राहुल गांधी मनोरुग्ण, वीर सावरकर को समझने जितना नहीं अक्ल

नेहरू की करतूतों को छुपानेवाली कांग्रेस सदा वीर सावरकर और क्रांतिकारियों की स्वतंत्रता संग्राम में भूमिका पर हमले करती रही है। भारत के स्वातंत्र्य समर में क्रांतिकारियों का अभिन्न योगदान रहा, लेकिन इसके बाद भी स्वतंत्र भारत में उनके हिस्से उपेक्षा और सत्ता लोलुपों द्वारा किया जा रहा अवमान ही आया।

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा महाराष्ट्र में अप्रचारित ही रह गई। इस स्थिति से बेचैन कांग्रेस ने अपना पुराना हथकंडा अपना लिया। हिंगोली में आयोजित एक कार्यक्रम में राहुल गांधी ने अपना वीर सावरकर विरोधी पैंतरा अपनाया। जिससे चिर शांति में चल रही उनकी यात्रा को विवादों का एक ट्विस्ट मिला और उन पर चौतरफा हमला शुरू हो गया। भारतीय जनता पार्टी के विधायक अतुल भातखलकर ने भी वीर सावरकर पर की गई अशोभनीय टिप्पणी का तीव्र विरोध दर्शाया है।

अतुल भातखलकर ने अपने ट्वीट में लिखा है कि, राहुल गांधी मनोरुग्ण है, वीर सावरकर को समझने की अक्ल उनमें नहीं है। उन्हें अंदमान पर्व नहीं समझेगा, उनकी कूद मात्र थाईलैंड तक है। सफेद पाऊडर का परिणाम और क्या होगा…’

ये भी पढ़ें – रणजीत सावरकर ने नेहरू के कुकर्मों को प्रमाण सहित किया उजागर

मूर्ख को राष्ट्रगीत नहीं पता
अतुल भातखलकर ने एक वीडियो ट्वीट किया है, जिसमें दिखाया गया है कि,राहुल गांधी ने राष्ट्रगीत की घोषणा की और कांग्रेस के प्यादों ने नेपाल का राष्ट्रगीत बजा दिया। इस पर तीखी टिप्पणी करते हुए भातखलकर ने लिखा है, ‘जिस मूर्ख को राष्ट्रगीत नहीं पता, वह राष्ट्र पुरुषों को कैसे पहचानेगा? यह सिर पर सवार है और उसे सिर पर चढ़ानेवाले जोकर इस देश में हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here