‘कांग्रेस नेताओं के आचरण से दुखी लेकिन आश्चर्यचकित नहीं’! जेपी नड्डा का सोनिया गांधी को पत्र

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा है। यह पत्र भाजपा का पलटवारा माना जा रहा है। इस पत्र को भेजने के एक दिन पहले ही संपन्न हुई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कोरोना काल में कारगर कदम उठाने में असफल रहने का आरोप लगाया गया था। इसमें कहा गया था प्रधानमंत्री को अपनी गलतियों को स्वीकारना चाहिये और पूरी तरह समर्पित होना चाहिये।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने एक पत्र कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखा है। इस पत्र में कांग्रेस के बयानबाज नेताओं और मुख्यमंत्रियों पर आक्रोश प्रकट किया गया है। भाजपा अध्यक्ष ने लिखा है कि देश जब कोविड 19 संक्रमण से जूझ रहा है तब कुछ नेता निचले स्तर की राजनीति कर रहे हैं।

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सोनिया गांधी को लिखे अपने पत्र में कहा है कि, कोविड 19 की जो राहत सामग्री पीएम केयर्स फंड के उपयोग से खरीदकर आबंटित की गई है वो कुप्रबंधन की बलि चढ़ रही है और टीकारण को लेकर भी नेता संदेह की स्थिति के निर्माण में लगे हुए हैं। कांग्रेस के शीर्ष नेता लोगों को गुमराह करना बंद करें। इससे झूठी दहशत की निर्माण होगा और राजनीतिक विचारों के आदान प्रदान में भी विरोध होगा।

ये भी पढ़ें – ये चंदा है आतंकी धंधा! कोरोना के नाम खालिस्तानियों की ये है नई चाल

जेपी नड्डा ने कांग्रस के उन नेताओं और मुख्यमंत्रियों पर आरोप लगाया है कि कोविड -19 वैक्सीन विकसित करने के लिए वैज्ञानिकों, डॉक्टरों और नवप्रवर्तकों द्वारा किए जा रहे प्रयासों पर कांग्रेस के नेताओं ने ‘टिप्पणी करने का कोई अवसर नहीं छोड़ा’।

ये है उस पत्र की बातें!

कार्यों की जानकारी
वर्ष 2020 में कोरोना के शुरू होते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सरकार के सभी विभागों के साथ कार्य कर रहे हैं ताकि इस महामारी से लड़ाई में बल मिल सके। इसमें प्राधान्यता स्वास्थ्य सुविधाओं की क्षमता बढ़ाने और संक्रमितों को पर्याप्त सुविधा प्रदान करने की है। इसका प्रयत्न किया जा रहा है कि कोविड 19 से लड़ने के लिए सभी क्षेत्रों में औषधि और संसाधन व्यवस्था पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो पाए। वर्ष 2020 में आठ महीने तक केंद्र सरकार ने 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अन्न आबंटित किया। यह अब भी किया जा रहा है।

नेता नकारात्मककता फैला रहे
प्रधानमंत्री सभी मुख्यमंत्रियों के संपर्क में है जिससे कोरोना वायरस को हराया जा सके। उन्होंने कई बैठकें मुख्यमंत्रियों के साथ की, जो बहुत ही अच्छे वातावरण में संपन्न हुईं। पूर्व प्रधानमंत्री और किसान नेता एचडी देवेगौड़ा ने स्वत: प्रधानमंत्री के प्रयत्नों की प्रशंसा की।

ऐसे कठिन काल में मैं इस संदर्भ में कांग्रेस के आचरण के प्रति व्यथित हूं लेकिन आश्चर्यचकित नहीं। वैसे ही आपकी पार्टी के बहुत ही कम लोग, लोगों की सहायता के लिए अच्छा कार्य कर रहे हैं, लेकिन उनका कठिन परिश्रम वरिष्ठ नेताओं की नकारात्मकता के कारण छुप जाती है।

भ्रम प्रसारित करना बंद करें
मैं यह पत्र बहुत ही व्यथित होकर लिख रहा हूं, मैं ऐसा पत्र कभी नहीं लिखता। लेकिन, कांग्रेस के सदस्यों और मुख्यमंत्रियों द्वारा भ्रम फैलाने के बाद मुझे अपने विचारों को लिखना पड़ रहा है। भारत कोविड 19 से धैर्य के साथ लड़ रहा है ऐसे समय में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं द्वारा लोगों को भ्रमित करने और झूठा डर फैलाने और समय-समय पर राजनीतिक उद्देश्यों को लेकर अपनी भूमिका बदलना बंद करना चाहिये।

ये भी पढ़ें – रूस में एक स्कूल पर हमला, 11 लोगों की मौत, एक हमलावर भी ढेर

टीकाकरण पर टिप्पणियां
पिछले पूरे वर्ष हमारे वैज्ञानिक, डॉक्टर और अविष्कार करनेवालों ने तीव्र गति से टीका निर्माण में व्यतीत किया, आपकी पार्टी ने एक भी अवसर इन प्रयत्नों पर टिप्पणी का नहीं छोड़ा। जबकि, भारत में बना टीका राष्ट्रीय गर्व की बात है, लेकिन कांग्रेस के नेता इस पर टिप्पणिया कर रहे हैं और लोगों के मन में संदेह उत्पन्न कर रहे हैं। आपकी पार्टी के एक मुख्यमंत्री भी ऐसे कार्यों में संलिप्त रहे हैं। ऐसा देश जहां टीका को लेकर कोई संदेह नहीं रहा है वहां आपकी की पार्टी की पृष्ठभूमि रही है ऐसा संदेह उत्पन्न करने की और वह भी तब जब सदी में एकाक बार महामारी काल आ जाए।

नि:शुल्क टीकाकरण करें कांग्रेस शासित राज्य
टीकाकरण तक सबकी पहुंच का विषय मैं उठाना चाहता हूं। ऐसे राज्य जहां भाजपा या एनडीए की सरकार है वे सभी गरीबों का मुफ्त टीकाकरण करवाने की घोषणा कर चुकी हैं। मुझे आशा है राज्यों की कांग्रेस शासित राज्य भी इसे महसूस करेंगे और गरीबों को मुफ्त टीका देने का निर्णय करेंगे। क्या वे भी मुफ्त टीका उपलब्ध कराने का निर्णय करेंगे।

पीएम केयर्स क अंतर्गत दिये गए वेंटिलेटर्स पड़े हुए
जब महामारी शुरू हुई भारत सरकार ने राज्यों में वेंटिलेटर की आवश्यकताओं पर चर्चा किया। अब मिशन मानकर किये गए कार्य में सभी राज्यों को लगभग 45 हजार वेंटिलेटर निर्मित और दिये जा चुके हैं। लेकिन यह दुखद है कि पीएम केयर्स फंड से भेजे गए वेंटिलेटर्स बिना उपयोग के पड़े हुए हैं। मुझे आशा है आप इस विषय को हल करेंगी।

राहुल गांधी पर प्रहार
महामारी के साथ इस युद्ध में कांग्रेस के वरिष्ठतम नेताओं जिसमें राहुल गांधी शामिल हैं, का अचरण स्मरण रहेगा क्षुद्र और दोमुंहापन के लिए। आपकी पार्टी आपका नेतृत्व अपना भी ध्यान नहीं रख रही एक बार लॉकडाउन का विरोध करके और बाद में उसकी मांग करके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here