असम-मेघालय सीमा पर हिंसा, 6 लोगों की मौत, सीएम सरमा ने की इस एजेंसी से जांच कराने की मांग

वन रक्षको द्वारा अवैध रूप से काटी गई लकड़ियों से लदे ट्रक को रोकने के बाद दोनों राज्यों के बीच सीमा पर हिंसा भड़क गई थी। जिसमें मेघालय के पांच आदिवासी ग्रामीणों, वहीं असम के एक वन रक्षक की मौत हो गई थी।

असम-मेघालय सीमा पर लकड़ी तस्करों को रोकने पर हिंसक झड़प हो गई थी, जिसमें वन रक्षक सहित छह लोगों की मौत हो गई थी। अब असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने इस खूनी झड़प की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है।

दिल्ली में असम के मुख्यमंत्री ने कही यह बात 
असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने 23 नवंबर को दिल्ली में कहा कि उनकी कैबिनेट ने दोनों राज्यों की सीमा पर हुई हिंसा की जांच सीबीआई को सौंपने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा दिल्ली में केंद्रीय गृहमंत्री शाह से मिलने आए थे।

यह भी पढ़ें- चंपा षष्ठी पर कर्नाटक के मंदिर में न लगें गैर हिंदुओं के स्टाल, हिंदू संगठनों की मांग के पीछे का क्या है कारण?

यह है मामला 
असम के वन रक्षको द्वारा अवैध रूप से काटी गई लकड़ियों से लदे ट्रक को रोकने के बाद 22 नवंबर को तड़के दोनों राज्यों के बीच सीमा पर हिंसा भड़क गई थी। जिसमें मेघालय के पांच आदिवासी ग्रामीणों, वहीं असम के एक वन रक्षक सहित छह लोगों की मौत हो गई थी। इसके बाद, मेघालय के आदिवासी ग्रामीणों के एक समूह ने कथित तौर पर असम के पश्चिम कार्बी आंगलोंग जिले में एक वन कार्यालय में तोड़फोड़ की और आग लगा दी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here