पंजशीर के शेरों के आगे पस्त तालिबानी लड़ाके! 350 ढेर,40 पकड़े गए

पंजशीर घाटी काबुल से 50 किलोमीटर उत्तर हिंदू कुश पहाड़ी इलाके में स्थित है। महत्वपूर्ण बात यह भी है कि पंजशीर घाटी में अफगानिस्तान के कार्यवाहक राष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह भी मौजूद हैं।

अफगानिस्तान में तालिबान ने कब्जा तो कर लिया है, लेकिन उसके लिए एकछत्र साम्राज्य स्थापित करना भी इतना आसान नहीं है। इसी क्रम में फिलहाल पंजशीर प्रांत में तालिबान और नॉदर्न अलायंस के बीच जंग तेज हो गई है। इस जंग में तालिबान को बड़ा नुकसान पहुंचा है और उसके सैकड़ों लड़ाकों के मारे जाने की खबर है। नॉदर्न अलायंस ने जानकारी देते हुए दावा किया है कि इस जंग में तालिबान के 350 लड़ाके मारे गए हैं।

नॉदर्न अलाएंस का नेतृत्व अहमद मसूद कर रहे हैं। इससे पहले तालिबान ने 1 सितंबर को कहा था कि पंजशीर प्रांत के नेताओं के साथ उसकी बातचीत विफल हो गई है। फिलहाल अफगानिस्तान में पंजशीर अकेला प्रांत है, जो तालिबान के कब्जे से बाहर है।

नॉदर्न अलायंस का दावा
जंग के बारे में जानकारी देते हुए नॉदर्न अलायंस ने दावा किया है कि 350 लालिबानी मारे गए हैं, जबकि 40 को पकड़कर बंधक बना लिया गया है। एक स्थानीय पत्रकार नातिक मालिकजादा द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार अफगानिस्तान के पंजशीर के एंट्रेंस पर स्थित गुलबहार इलाके में तालिबान और नॉदर्न अलायंस के लड़ाकों के बीच ममुठभेड़ हुई है।

ये भी पढ़ेंः देश में 99 बंगाल तो उत्तर भारत में 33 केरल! जानिये, गांवों के नामकरण का गुणा-गणित

आसमान पर हौसले
पंजशीर घाटी काबुल से 50 किलोमीटर उत्तर हिंदू कुश पहाड़ी इलाके में स्थित है। महत्वपूर्ण बात यह भी है कि पंजशीर घाटी में अफगानिस्तान के कार्यवाहक राष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह भी मौजूद हैं। उन्होंने तालिबान को अफगानिस्तान से उखाड़ फेंकने की शपथ ली है। इसके साथ ही अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद भी पंजशीर में हैं। उन्होंने कहा कि मैं अहमद शाह मसूद का बेटा हूं। मेरी डिक्शनरी में सरेंडर जैसा शब्द नहीं है। स्वाभाविक तौर पर पंजशीर के शेरों के बयान को देखते हुए इस प्रांत पर तालिबानियों के लिए अधिकार जमाना बेहद मुश्किल होगा।

इंटरनेट सेवा बंद
इस बीच पंजशीर प्रांत में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है, जबकि प्रांत की ओर जाने वाली सड़कों को भी अवरुद्ध कर दिया गया है। स्थानीय निवासियों का कहना है कि इंटरनेट सेवा बंद होने से उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here