जानिये, मुंबई के बार मालिकों को ईडी ने क्यों भेजा समन!

पूर्व केंद्रीय मंत्री अनिल देशमुख द्वारा मुंबई पुलिस को 100 करोड़ की वसूली का टारगेट दिए जाने के मामले में ईडी से जांच तेज कर दी है। इस सिलसिले में उसने बार मालिकों के बयान दर्ज करने शुरू कर दिए हैं।

मुंबई के कई बार मालिक 100 करोड़ रुपये की कथित वसूली के मामले में अब प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के रडार पर हैं। फिलहाल ईडी ने पश्चिमी उपनगरों के कुछ बार मालिकों को इस मामले में पूछताछ के लिए समन जारी किया है। इससे पहले सीबीआई ने इस केस में अंधेरी के एक बार मालिक का बयान दर्ज किया था। यह बार मालिक कथित रुप से मुंबई के बर्खास्त सहायक पुलिस निरीक्षक सचिन वाझे को हर महीने 2.5 लाख रुपये हफ्ता दे रहा था।

बता दें कि प्रदेश के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख पर मुंबई के तत्कालीन पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने यहां के बारों से कथित रुप से 100 करोड़ रुपये वसूली के लिए पुलिस पर दबाव बनाने का आरोप लगाया है। इस मामले में सीबीआई ने जांच शुरू कर दी है।

अब तक 8 लोगों के बयान दर्ज
अब तक सीबीआई ने पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख समेत 8 लोगों के बयान दर्ज किए हैं। इनमें अंधेरी का एक बार मालिक भी शामिल है। इस बार मालिक से सचिन वाझे को ढाई लाख रुपये मासिक हफ्ता मिल रहा था,हालांकि यह पता नहीं चल पाया है कि वह पैसे किसे देता था।

ये भी पढ़ेंः ब्लैक फंगस पर महाराष्ट्र सरकार की बड़ी घोषणा!

बार मालिकों से एक-एक कर होगी पूछताछ!
अब ईडी ने इस मामले में पूछताछ तेज कर दी है। उसने मुंबई के उन बार मालिकों की सूची भी प्राप्त कर ली है, जिनसे हफ्ता वसूली का टारगेट पुलिस को दिया गया था। फिलहाल ईडी ने पश्चिमी उपनगरों के पांच बार मालिकों को पूछताछ के लिए बुलाया है, जिसमें अंधेरी का एक बार मालिक भी शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here