आखिर बच्ची को लगा 16 करोड़ का इंजेक्शन!

दुर्लभ बीमारी SMA TYPE 1 से पीड़ित वेदिका सौरभ शिंदे नाम की 11 महीने की बच्ची को पुणे के दीनानाथ मंगेशकर अस्पताल में 16 जून की सुबह 11 बजे संयुक्त राज्य अमेरिका से आयात 16 करोड़ रुपए का इंजेक्शन zolgensma लगाया गया। वेदिका को दो दिन पहले इस अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसे सभी तरह के आवश्यक परीक्षणों के बाद इंजेक्शन लगाया गया। वह अब बेहतर है। चूंकि यह वन टाइम जिन थेरेपी है, इसलिए सिंगल डोज इंजेक्शन दिया गया।

केंद्र ने आयात शुल्क माफ किया
वेदिका के पिता सौरभ शिंदे ने राज्य के स्वास्थ्य विभाग और केंद्रीय वित्त मंत्रालय को पत्र लिखकर वैक्सीन पर आयात शुल्क माफ करने की मांग की थी। उसके बाद केंद्र सरकार ने आयात शुल्क और करों को माफ कर दिया। शिंदे ने कहा कि सिने-अभिनेता नीलेश दिवेकर और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के सचिव संकेत भोंडवे ने इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

सबकी मेहनत का फल
जब वेदिका सिर्फ 8 महीने की थी, तब उसे दुर्लभ बीमारी SMA TYPE 1 का पता चला था। इस बीमारी के लिए zolgensma दवा जरुरी थी। एक सामान्य परिवार से आने वाले वेदिका के पिता सौरभ और माता स्नेहा शिंदे ने जनप्रतिनिधि और सीएसआर के माध्यम से 16 करोड़ रुपये जुटाए। आखिर उनकी मेहनत रंग लाई। सभी दानदाताओं ने अपने-अपने तरीके से यथासंभव मदद की। वेदिका के माता-पिता ने कहा कि आज सभी लोगों का आशीर्वाद रंग लाया है और वेदिका को इंजेक्शन लगाया गया है।

 शिंदे ने बताया कि सांसद डॉ. अमोल कोल्हे ने यथासंभव मदद करने का विशेष प्रयास किया। उन्होंने यह भी मांग की कि संसद ऐसी बीमारियों के लिए विशेष प्रावधान करे। शिंदे परिवार ने यह भी कहा कि भोसरी के विधायक विलास लांडे पाटील, शिंदे परिवार के साथ शुरू से लेकर दवा मिलने तक खड़े रहे और हर तरह से मदद की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here