विक्रम संपत लिखित ‘सावरकर: ए कंटेस्टेड लिगेसी’ के कवर पृष्ठ का विमोचन

स्वातंत्र्यवीर सावरकर के जीवन का चित्रण करती पुस्तक का दूसरा खण्ड 28 मई को पाठकों के लिए उपलब्ध होगा। इस पुस्तक को प्रसिद्ध इतिहास अभ्यासक विक्रम संपत ने लिखा है। जो अंग्रेजी में है। इसे पेंग्विन वाइकिंग द्वारा प्रकाशित किया जा रहा है।

स्वातंत्र्यवीर सावरकर के जीवन पर लिखी पुस्तक का दूसरा खण्ड 28 मई से पाठकों के समक्ष होगा। इसमें वीर सावरकर के कालापानी की यातना से मुक्ति के बाद के जीवन का समग्र चित्रण होगा। विक्रम संपत द्वारा लिखित पुस्तक का यहा दूसरा खण्ड है जिसका शीर्षक है ‘सावरकर: अ कंटेस्टेड लिगेसी’।

स्वातंत्र्यवीर सावरकर के जीवन पर इसके पहले विक्रम संपत ने ‘सावरकर: इकोस फ्रॉम ए फॉरगॉटन पास्ट’ लिखा था। जिसमें वीर सावरकर के बाल्यकाल से रत्नागिरी तक पहुंचने की यात्रा का चित्रण उन्होंने किया है। अब दूसरी पुस्तक वीर सावरकर के इसके आगे के जीवन कार्यों को वर्णित करेगी।

स्वातंत्र्यवीर सावरकर के विषय में महाराष्ट्र को छोड़ दें तो अन्य राज्यों में अधिक जानकारी नहीं है। इसलिए उनके बारे में समाज में भ्रांतियां फैली हुई हैं। स्वातंत्र्यवीर सावरकर के विषय में सत्य, विश्वसनीय जानकारी लोगों को उपलब्ध कराने के लिए मैंने इन दोनों पुस्तकों को लिखा है। इतिहास का अध्ययनकर्ता होने के कारण मैंने ऐतिहासिक प्रमाणों का अध्ययन करके इन पुस्तकों को लिखा है। इनसे पाठकों को स्वातंत्र्यवीर सावरकर के विषय में तथ्यपरक जानकारी प्राप्त होगी यही अपेक्षा है।
विक्रम संपत – लेखक व इतिहास अभ्यासकार

दूसरे खण्ड में क्या होगा?
स्वातंत्र्यवीर सावरकर के जीवन के कई पहलू हैं। वे क्रांतिकारियों के अग्रणी थे, समाज के लिए पथ प्रदर्शक थे, समाज सुधारक थे, उत्तम वक्ता, लेखर, पत्रकार, कट्टर राष्ट्र प्रेमी थे। पुस्तकों की रुचि और अध्ययन से शुरू हुआ उनका भविष्य देश की स्वतंत्रता के लिए समाज में ज्योति प्रज्वलित करने की ओर ऐसा मुड़ा कि उसने वीर सावरकर के संपूर्ण जीवन को ही राष्ट्रहित और राष्ट्र धर्म के लिए समर्पित कर दिया। इसके लिए उन्होंने अपने निजी जीवन को त्याग दिया, कालापानी की यातना सही। स्वातंत्र्यवीर के जीवन के इन पहलुओं का वर्णन करती है पुस्तक ‘सावरकर इकोज़ फ्रॉम ए फॉरगॉटेन पास्ट’ जो प्रथम खण्ड है। अब दूसरा खण्ड आ रहा है। इसमें स्वातंत्र्यवीर सावरकर के कालापानी मुक्ति के बाद के जीवन का दर्शन होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here