कोरोना को हराना है! क्या दिल्ली में लागू होगा मुंबई पैटर्न?

मुंबई में जिस तरह से कम ही दिनों में कोरोना की दूसरी लहर को कंट्रोल किया गया है, उसकी प्रशंसा देश के न्यायालयों तक ने की है। अब इस पैटर्न की एक बार फिर चर्चा जोरों पर है।

मुंबई की बड़ी आबादी सहित कई अन्य चुनौतियों के बावजूद कोरोना काल में मुंबई महानगरपालिका द्वारा किए गए कार्यों को राज्य, राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर पर समय-समय पर सकारात्मक रूप से स्वीकार किया जाता रहा है। इस सिलसिले में दिल्ली राज्य सरकार के प्रतिनिधियों ने हाल ही में मुंबई का दौरा किया। दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारी डॉ. संजय अग्रवाल और डॉ. धर्मेंद्र कुमार की टीम ने मुंबई में अपने अध्ययन दौरे के दौरान कोरोना संक्रमण रोकने के लिए बीएमसी द्वारा उठाए गए कदमों के विभिन्न स्तरों के बारे में जानकारी प्राप्त की है।

दी गई विस्तृत जानकारी
बीएमसी आयुक्त इकबाल सिंह चहल के मार्गदर्शन में इस दौरे की योजना बनाई गई थी। अतिरिक्त नगर आयुक्त (पश्चिमी उपनगर) सुरेश काकानी के मार्गदर्शन में आयोजित एक विशेष बैठक के दौरान बीएमसी द्वारा कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए उठाए गए कदमों बारे में दिल्ली राज्य सरकार के प्रतिनिधियों को एक कंप्यूटर प्रस्तुति के जरिए विस्तृत जानकारी दी गई।

ये भी पढ़ेंः भीगी-भीगी सी मुंबई के लिए आया ऑरेंज एलर्ट

अस्पतालों का भी किया दौरा
यात्रा के दौरान, उन्होंने वार्ड वॉर रूम, अस्पताल स्तर पर सफल ऑक्सीजन प्रबंधन और जंबो कोविड अस्पतालों के माध्यम से प्राप्त विकेन्द्रीकृत प्रबंधन के बारे में जानकारी प्राप्त की। इसके लिए प्रतिनिधियों ने गोरेगांव में जंबो कोविड अस्पताल और अंधेरी के सेवन हिल्स अस्पताल का दौरा किया और वहां की जा रही व्यवस्थाओं को प्रत्यक्ष रुप से देखा।

दिल्ली में जल्द लॉन्च होगा मॉडल
अध्ययन दौरे के अंत में अतिरिक्त नगर आयुक्त काकानी और बीएमसी की मेडिकल टीम से बातचीत करते हुए दिल्ली राज्य सरकार की टीम ने कहा कि बीएमसी द्वारा किया गया कार्य अनुकरणीय है और दिल्ली में मुंबई मॉडल को जल्द लागू किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here