उन बच्चों के स्वास्थ्य की देखरेख में नई पहल

सरकारी गृह में रहनेवाले बच्चों को स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करने के लिए महत्वपूर्ण कदम केंद्र सरकारन ने उठाया है।

देश में सरकारी बाल देखभाल केंद्रों में रहनेवाले बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने नई पहल की है। इसके अंतर्गत मंत्रालय ने इंडियन एकेडमी ञफ पीडियाट्रिक्स के साथ अनुबंध किया है। इससे बच्चों को अब विशेषज्ञ डॉक्टरों की सेवा मिलना आसान हो गया है।

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी ने कहा है कि, सरकारी बाल देखभाल संस्थाओं (सीसीआई) में रहने वाले बच्चों को विशेषज्ञों द्वारा देखभाल प्रदान करने की दृष्टि से देश भर में मंत्रालय ने इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स को साथ जोड़ा है। यह बाल संरक्षण सेवाओं के लिए योजना के तहत बच्चों को प्रदान की जाने वाली चिकित्सा देखभाल के अतिरिक्त होगा। केयर-टेकर्स/ चाइल्ड प्रोटेक्शन ऑफिसर देश के दूरस्थ कोनों से भी बाल रोग विशेषज्ञों द्वारा इस टेलीमेडिसिन सेवा का लाभ सप्ताह में 6 दिन ले सकेंगे। 2000 से अधिक सीसीआई के हजारों बच्चे इस सेवा के माध्यम से लाभान्वित होंगे।

ये भी पढ़ें – ये चंदा है आतंकी धंधा! कोरोना के नाम खालिस्तानियों की ये है नई चाल

बता दें कि, वर्तमान में विशेषज्ञों की टीमों के पास 30,000 इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स (आईएपी) के सदस्यों का मजबूत नेटवर्क है, कमजोर बच्चों को सेवाएं देने के लिए सेंट्रल, जोनल, राज्य और शहरी स्तर पर केंद्र गठित किए जा रहे हैं। हर सरकारी या सहायता प्राप्त सीसीआई में एक विशेषज्ञ होगा जो आईएपी द्वारा उपलब्ध करवाया जाएगा। इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स और उसके सदस्यों का कमजोर बच्चों को अपनी सेवाएं देने के लिए स्मृति ईरानी ने भी किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here