जानिये, केंद्रों पर ऑफलाइन टीकाकरण के लिए क्यों उमड़ रही है भीड़!

लोगों को अब लगने लगा है कि अगर वे कोरोना से बचना चाहते हैं तो टीकाकरण सबसे अच्छा उपाय है। इसलिए हर कोई इसके लिए उत्साहित दिख रहा है। अब तो 18 प्लस वालों का भी टीकाकरण किया जा रहा है। इसलिए नौजवान भी जल्द से जल्द टीका लगवा लेना चाहते हैं।

इन दिनों हर कोई एक दूसरे से एक ही सवाल पूछ रहा है,’आपने टीका लगाया या नहीं?’
लोगों को अब लगने लगा है कि अगर वे कोरोना से बचना चाहते हैं तो टीकाकरण सबसे अच्छा उपाय है। इसलिए हर कोई इसके लिए उत्साहित दिख रहा है। अब तो 18 प्लस वालों का भी टीकाकरण किया जा रहा है। इसलिए नौजवान भी जल्द से जल्द टीका लगवा लेना चाहते हैं।

टीकाकरण के पंजीकरण के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दो विकल्प उपलब्ध हैं। ऑनलाइन में लोगों को पहले पंजीकरण करना होता है। लेकिन ऑफलाइन पंजीकरण करके टीका लगवाने वाले लोगों की संख्या अभी भी अधिक है। इस कारण टीकाकरण केंद्रों पर भारी भीड़ देखी जा रही है। हालांकि इस तरह की भीड़ एक तरह से कोरोना को सीधा-सीधा निमंत्रन देने जैसा है।

क्यों है भीड़?
यहां तक ​​कि ऐसे केंद्रों पर, जहां 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को टीका लगाया जाता है, भीड़ बढ़ती दिख रही है। इनमें ऑफलाइन पंजीकरण कराकर टीकाकरण कराने वालों की संख्या अधिक है। हालांकि मुंबई में ऑफलाइन पंजीकरण बंद कर दिया गया है, लेकिन यह अभी भी राज्य के अन्य हिस्सों में जारी है। इसके लिए सुबह 4 बजे से टीकाकरण केंद्रों पर नागरिकों की कतार लग जाती है। टीके के सीमित स्टॉक के कारण उन लोगों को प्राथमिकता दी जाती है, जो ऑनलाइन पंजीकरण कराते हैं और टीकाकरण के लिए दूसरी खुराक ले रहे होते हैं। इस कारण कई बार ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन कराने वालों को लाइन में खड़े होने के बावजूद निराश होकर लौटना पड़ता है। इससे टीकाकरण केंद्रों पर अफरा-तफरी का माहौल बन जाता है।

ये भी पढ़ेंः कोविड योद्धाओं से कांप गए संक्रमित, प्रशासन भी लगा दौड़ने!

ये है कारण
विभाग के पिन कोड के आधार पर या जिले के आधार पर को-विन पोर्टल पर टीकाकरण पंजीकृत किया जा सकता है। लेकिन कई बार यह पंजीकरण यह भी दर्शाता है कि विभाग में टीकाकरण केंद्रों पर ऑनलाइन पंजीकरण पूरा हो चुका है। साथ ही, जिन केंद्रों पर पंजीकरण चल रहा है, वे केंद्र बहुत दूर हैं, इसलिए नागरिक उन्हें नहीं चुनते हैं। ऐसे में नागरिक ऑफलाइन टीकाकरण के लिए निकटतम केंद्र पर जाते हैं। लेकिन घंटों तक लाइन में खड़े रहने के बाद भी उनका टीकाकरण नहीं होता है, इसलिए केंद्र पर अक्सर हंगामा हो जाता है। इसके बावजूद ऑफलाइन पंजीकरण कराने वालों को लाइन में खड़ा होने का आलावा दूसरा कोई उपाय नहीं है।

दूसरी खुराक के लिए भी ऑनलाइन पंजीकरण आवश्यक
टीकाकरण केंद्रों पर बढ़ती भीड़ के कारण, मुंबई महानगरपालिका ने केवल उन लोगों को ही टीकाकरण करने का फैसला किया है, जो ऑनलाइन पंजीकरण करते हैं। प्रशासन ने कहा है कि नागरिक कोविशील्ड की दूसरी खुराक लेना चाहते हैं। लेकिन ऑनलाइन पंजीकरण करते समय, नागरिक भ्रमित होते हैं क्योंकि टीकाकरण केंद्र पर वा उपलब्ध नहीं होता है। प्रशासन ने कहा है कि नागरिकों को घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है। एक बार टीकाकरण पूर्ववत होने के बाद, वे ऑनलाइन पंजीकरण कर पाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here