क्यों उच्च रक्तचाप और मधुमेह के शिकार हो रहे मुंबईकर? जानिये मनपा-डब्लूएचओ का सर्वेक्षण, रहिये निरोगी

मुंबई में शहरी दिनचर्या में लोग बिमारियों का लगातार शिकार हो रहे हैं। इसके निराकरण के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन और मुंबई मनपा ने संयुक्त सर्वेक्षण किया है।

BMC WHO

विश्व स्वास्थ्य संगठन और मुंबई मनपा के जन स्वास्थ्य विभाग द्वारा किए गए डब्ल्यूएचओ स्टेप सर्वे में मुंबई के 34 प्रतिशत नागरिकों के उच्च रक्तचाप से पीड़ित होने का तथ्य सामने आया है। इसके अलावा, मोटे और एक स्थान पर बैठकर काम करनेवाले व्यक्तियों में टाइप 2 मधुमेह का खतरा अधिक होता है। मुंबई शहर में, यह भी बताया गया है कि लगभग 18 प्रतिशत मुंबईकरों में फास्टिंग ब्लड शुगर का स्तर सामान्य से अधिक है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन का स्टेप सर्वेक्षण मुंबई मनपा के असंसर्गजन्य रोग विभाग के मार्गदर्शन में नीलसन आईक्यू प्राइवेट लिमिटेड ने किया है। इस संगठन ने स्वतंत्र डेटा संकलित किया था, जिसे अंतिम रूप देने के लिए इसमें केईएम, नायर, सायन और कूपर जैसे मेडिकल कॉलेजों के विशेषज्ञों ने भी हिस्सा लिया। इस बीच दो कार्यशालाओं का आयोजन भी किया गया था।

कराया गया सर्वेक्षण
मुंबई मनपा के सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग की ओर से, मुंबई के सभी 24 प्रशासनिक प्रभागों, बस्तियों में जनसंख्या आधारित स्वास्थ्य जांच सर्वेक्षण किया गया है। इसमें मुख्य रूप से 18 से 69 वर्ष की आयु के व्यक्तियों के गैर-संचारी रोगों के जोखिमों के बारे में जाना गया। यह सर्वेक्षण मुंबई में अगस्त से दिसंबर 2021 तक तीन चरणों में किया गया था।
पहले चरण में, सामाजिक-जनसांख्यिकीय और व्यवहार संबंधी जानकारी के लिए डेटा एकत्र किया गया था। दूसरे चरण में ऊंचाई, वजन और ब्लड प्रेशर के आंकड़े जुटाए गए। इसके अलावा तीसरे चरण में रक्त ग्लूकोज और कोलेस्ट्रॉल के स्तर का आकलन करने के लिए जैव रासायनिक माप लिया गया। सर्वेक्षण के लिए कुल 5 हजार 950 वयस्कों से संपर्क किया गया, जिनमें से 5 हजार 19 वयस्कों ने सर्वेक्षण में सहभाग लिया। जिसमें 2 हजार 601 पुरुष व 2 हजार 598 महिलाएं शामिल हैं।

जोखिम में दस में से चार मुंबईवासी
8 वर्ष से 69 वर्ष की आयुवर्ग के लोगों के सर्वेक्षण में लगभग 37 प्रतिशत व्यक्तियों (10 मुंबईकरों में से लगभग 4) में 6 जोखिम कारकों में से 3 या अधिक पाए गए।
1. धूम्रपान करनेवाले
2. दैनिक रूप से फल और सब्जी का कम मात्रा में सेवन करना
3. अपर्याप्त शारीरिक व्यायाम
4. मोटापा
5. उच्च रक्तचाप या वर्तमान में उच्च रक्तचाप के लिए दवा लेना
6. उच्च रक्त शर्करा वाले व्यक्ति या वर्तमान में उच्च रक्त शर्करा के लिए दवा लेनेवाले

उच्च रक्तचाप: (≥140/90)
मुंबई में, 34 प्रतिशत नागरिकों में उच्च रक्तचाप की शिकायत मिली, जिनमें से 72 प्रतिशत सार्वजनिक और निजी अस्पतालों में इलाज करा रहे थे। जिन लोगों का इलाज चल रहा था, उनमें से केवल 40 प्रतिशत नागरिकों का रक्तचाप नियंत्रण में पाया गया।

उच्च रक्त शर्करा या मधुमेह का कारण:
मधुमेह रोगियों में, टाइप 2 आम है और भारत में बुजुर्गों (आमतौर पर 35 वर्ष या उससे अधिक) को प्रभावित करता है। जो लोग मोटापे से ग्रस्त हैं और गतिहीन हैं उन्हें टाइप 2 मधुमेह का खतरा अधिक होता है।

• मुंबई शहर में लगभग 18% मुंबईकरों का फास्टिंग ब्लड शुगर लेवल सामान्य से अधिक है। (उन्नत ब्लड शुगर को फास्टिंग ब्लड शुगर ≥ 126 mg/dl के रूप में परिभाषित किया गया है)

• प्री डाइबिटीज- (उपवास या ग्लाइसेमिया) का प्रतिशत 15.6% है। (ब्लड शुगर लेवल ≥ 110 mg/dl और <126 mg/dl) ऐसे व्यक्तियों को मधुमेह का खतरा अधिक होता है।

• 82% लोग सार्वजनिक और निजी स्वास्थ्य सुविधाओं में हाइपरग्लेसेमिया (पहले हाइपरग्लेसेमिया का निदान) के लिए उपचार प्राप्त कर रहे थे।

• उपचार प्राप्त करने वालों में से केवल 42% लोगों में रक्त शर्करा नियंत्रण में पाया गया।

• 8.3% व्यक्तियों में उच्च रक्तचाप और मधुमेह दोनों पाए गए।

बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रोल:

• कोलेस्ट्रॉल एचडीएल (अच्छा) और नॉन-एचडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल दोनों का मिश्रण है। यदि किसी व्यक्ति का कुल कोलेस्ट्रॉल स्तर ≥ 190 mg/dl है, तो उस व्यक्ति को बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल माना जाता है।

• इस सर्वेक्षण में, लगभग 21% व्यक्तियों (5 में से 1) का कुल कोलेस्ट्रॉल ≥ 190 mg/dl था और वे बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल की दवा ले रहे थे।

ये भी पढ़ें – योगीराज में अतीक का आतंक? बसपा विधायक की हत्या के गवाह को सरेआम निपटाया, वीडियो वायरल

मुंबई में 12 फीसदी नागरिक करते हैं तंबाकू सेवन
विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार तंबाकू से हर साल 80 लाख से ज्यादा लोगों की मौत होती है। उन मौतों में से 7 मिलियन से अधिक सीधे तम्बाकू के उपयोग के लिए जिम्मेदार हैं। सर्वे के मुताबिक तंबाकू की कुल खपत 15 फीसदी है। 12 प्रतिशत से अधिक नागरिक प्रतिदिन तंबाकू का सेवन करते हैं। पुरुषों में यह अनुपात अधिक होता है। तम्बाकू खाने (मशेरी, गुटखा, पान मसाला, खैनी) की खपत लगभग 11 प्रतिशत है, जो बहुत अधिक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here