1 अप्रैल से बदल जाएंगे आपसे जुड़े ये नियम!

बजट 2021 में एंप्लाॉयीज प्रोविडेंट फंड (ईपीएफ) और वॉलंटरी प्रोविडेंट फंड( वीपीएफ) पर मिलने वाले ब्याज पर टैक्स की छूट की सीमा तय करने का प्रावधान किया गया है। यह 1 अप्रैल से लागू होने जा रहा है।

1 अप्रैल से पीएफ, इनकम टैक्स, इंश्योरेंस, पेंशन आदि से संबंधित नियमों में महत्वपूर्ण बदलाव होनेवाले हैं। बजट 2021 में एंप्लाॉयीज प्रोविडेंट फंड (ईपीएफ) और वॉलंटरी प्रोविडेंट फंड( वीपीएफ) पर मिलने वाले ब्याज पर टैक्स की छूट की सीमा तय करने का प्रावधान किया गया है। यह 1 अप्रैल से लागू होने जा रहा है। इसके साथ ही हवाई यात्रा, सिलेंडर की कीमतों, सरल पेंशन योजना से संबंधित महत्वपूर्ण नियमों में भी बदलाव किए जा रहे हैं।

75 वर्ष से ज्यादा उम्र के बुजुर्गों को टैक्स भरने से छूट
75 वर्ष से ज्यादा उम्र के बुजुर्गों को अब इनकम टैक्स रिटर्न नहीं भरना होगा। इस वर्ष के बजटीय भाषण में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस प्रावधान की घोषणा की थी। हालांकि यह छूट सिर्फ उन्हें ही मिलेगी, जिनके पास पेंशन को छोड़कर आय का और कोई साधन नहीं है।

ये भी पढ़ेंः एमआईडीसी के सर्वर हैक करने में किसका हाथ?… जानने के लिए पढ़ें ये खबर

प्रोविडेंट फंड के ब्याज पर सामान्य दर से टैक्स
बजट में एक वर्ष में 2.5 लाख रुपए से अधिक के प्रोविडेंट फंड जमा करने पर मिलने वाले ब्याज पर अब सामान्य दर से टैक्स लिया जाएगा। यह केवल कर्मचारी के कंट्रीब्यूशन पर लागू होगा। नौकरीदाता ( कंपनी) के योगदान पर नहीं। पीएफ में अधिक पैसा जमा करने पर कर्मचारी टैक्स बचाते रहे हैं, क्योंकि अभी तक पीएफ के ब्याज को टैक्स के दायरे से बाहर रखा गया था। वर्तमान प्रावधानों में एंप्लॉयीज प्रोविडेंट फंड, वॉलंटरी प्रोविडेंट फंड और एग्जेम्प्टेड प्रोविडेंट फंड ट्रस्ट्स के ब्याज पर टैक्स से छूट मिली हुई है। भले ही पीएफ कंट्रीब्यूशन कितना भी अधिक क्यों न हो। अब नए प्रावधान का सीधा असर हाई-इनकम सैलरी वाले लोगों पर पड़ेगा, जो टैक्स-फ्री इंटरेस्ट के लिए वॉलंटरी प्रोविडेंट फंड का उपयोग करते हैं।

सरल पेंशन योजना लागू
बीमा नियामक ने जीवन बीमा कंपनियों को इस साल 1 अप्रैल से सरल पेंशन योजना शुरू करने का निर्देश दिया है। सरल पेंशन प्लान के तहत बीमा कंपनियो को केवल दो वार्षिकी( ईएमआई) देने का विकल्प दिया गया है। नियामक ने अपने निर्देश में कहा है कि सरल पेंशन योजना के तहत मैच्योरिटी का लाभ नहीं मिलेगा। हालांकि, इसमें सौ फीसदी खरीद मूल्य की वापसी क विकल्प है।

ये भी पढ़ेंः कोब्रा और सी-60 हैं वामपंथी उग्रवाद का काल! जानें गठन की कहानी

रसोई गैस के दामों में बदलाव
हर माह की पहली तारीख को एलपीजी सिलेंडर यानी रसोई गैस के दामों में तेल कंपनियां परिवर्तन करती हैं। बीते महीने भी सिलेंडर के दामों में वृद्धि की गई थी। इस महीने भी इसके दामों में परिवर्तन होने की संभावना है।

हवाई यात्रा महंगी
1 अप्रैल से हवाई यात्रा का जेब पर अधिक असर होने वाला है। नागर विमानन महादिशेनालय( डीजीसीए) ने घरेलू यात्रियों के लिए 40 रुपए की बढ़ोतरी की है। ये एयरपोर्ट फीस अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए 114.38 रुपए होगी।

एलटीसी को लेकर भी प्रावधान
बजट में एलटीसी को लेकर भी प्रावधान किया गया है। कोरोना के कारण पिछली बार कर्मचारी एलटीसी का लाभ नहीं उठा पाए थे। अब सरकार उन्हें नगद भुतान करेगी। इस पर कोई टैक्स नहीं लगेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here